सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured post

Suicide Poem | By Hariram Regar

 आत्महत्या  क्या विषाद था तेरे मन में? क्यों लटक गया तू फंदे पर? जो औरों को कन्धा देता, क्यों आज है वो पर कंधे पर? क्या गिला रहा इस जीवन से? जो अकाल काल के गले मिला। जिसको नभ में था विचरण करना, क्यों बंद कक्ष-छत तले मिला? क्या इतना विशाल संकट था? जो जीकर ना सुलझा पाया। अरे! इतनी भी क्या शर्म-अकड़? जो अपनो को ना बतलाया।  क्या जीवन से भारी कोई  जीवन में ही आँधी आई? इन छुट-मुट संकट के चक्कर में  मृत्यु ही क्यों मन भायी? हाँ हार गया हो भले मगर, हाँ कुछ ना मिला हो भले मगर, या जीत गया हो भले मगर, पर जीवन थोड़ी था हारा? अरे! हार जीत तो चलती रहती।  इस हार से ही क्यों अँधियारा ?

About HindiPoems.in

HindiPoems.in

HindiPoems.in एक वेबसाइट जो साहित्य लेखन, तकनीकी और पर्यावरण से सम्बंधित जानकारी प्रदान करती है। यहाँ पर आपको व्याकरण सम्बंधित जानकारी मिलेगी जो आपको कविताओं, कहानीयों, ग़ज़लों  और शायरियों के लेखन में मदद करेगी। साथ ही साथ हमारे दैनिक जीवन में आने वाली तकनीकी और पर्यावरण जैसे मुद्दों की  समय समय पर  चर्चा की जाएगी।

OUR VISIONS:

हमारी वेबसाइट HindiPoems.in को साहित्य लेखन, तकनीकी और पर्यावरण से सम्बंधित जानकारी प्रदान करने वाली दुनिया की नंबर वन वेबसाइट बनाना है। 

HindiPoems.in वेबसाइट के माध्यम से हमारे भारतवर्ष के महान कवियों, लेखकों और अन्य महान व्यक्तित्व को दुनिया आप तक पहुंचाना, हिंदी साहित्य को बढ़ावा देना और नए साहित्यकारों को आगे बढ़ने में सहायता करना हमारा प्रारंभिक लक्ष्य है।

दूसरी ओर हमारे पर्यावरण से सबंधित जानकारी आप तक पहुंचाना। आज हमारे देश और अन्य देशों में प्रदूषण को लेकर खतरा बहुत बढ़ गया है, तो इस प्रदूषण को कम करने के उपायों और सुझावों को दुनिया तक पहुँचाना।

अगर आप भी इस मुहिम में अपना अमूल्य योगदान करना चाहते है तो आपके लिए HindiPoems.in के द्वार हमेशा खुले है। आप हमें hrsirdi@gmail.com पर ईमेल लिखें।  हमें आपके सवालों और सुझावों का इंतज़ार है। 

हमारी एक गुज़ारिश है कि आप लगातार HindiPoems.in visit करते रहे ताकि हमें और अच्छा करने की प्रेरणा मिलती रहे। 

HindiPoems.in

HindiPoems.in is a website that provides information related to literature writing, technology and the environment. Here you will get grammar-related information that will help you in writing poems, stories, ghazals and shayaries. At the same time, issues such as technical and environmental issues in our daily life will be discussed from time to time.

OUR VISIONS:

Our website is to make HindiPoems.in the world's number one website providing information related to literature writing, technical and environment.

Our primary goal is to bring the great poets, writers and other great personalities of our India to the world through the HindiPoems.in website, to promote Hindi literature and help new writers to grow.

On the other hand, to provide information related to our environment to you. Today, the danger of pollution has increased greatly in our country and other countries, so to spread the measures and suggestions to reduce this pollution to the world.

If you too want to make your invaluable contribution in this campaign, then the doors of HindiPoems.in are always open for you. You can email us at hrsirdi@gmail.com. We look forward to your questions and suggestions.

One of our requests is that you continue to visit HindiPoems.in so that we are motivated to do more good.
            

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चलना मुझे अकेला | Chalna mujhe akela | Motivational Poem | By Hariram Regar

चलना   मुझे    अकेला सड़क   पड़ी     सुनसान   भाइयों ! चलना    मुझे       अकेला    था।  इच्छा   नहीं   थी   मेरी   फिर   भी, मन    ने    मुझे    धकेला     था।  सड़क   पड़ी     सुनसान   भाइयों ! चलना    मुझे       अकेला    था । ।1 । ।   क्या   बारिश   से   रुक   सकता   है ? चन्द्रमा        का        चलना।  क्या   बारिश   से   रुक   सकता   है ? पृथ्वी    का    घूर्णन    करना ।  यह   मेरे   मन   ने   मुझको   बोला   था ।  सड़क   पड़ी     सुनसान   भाइयों ! चलना    मुझे       अकेला    था । ।2 । । आज    बारिश    से    बच    सकता   तू, कल    दुःख    की    बाढ़    में       बहना ।  तू    इतनी   सी   बात    से    डरता    तो, तुझे    स्वलक्ष्य    से    वंचित    रहना ।  मन    ने      मुझे      समझाते       हुए, ऐसा      भी        कह        डाला       था ।  सड़क   पड़ी     सुनसान   भाइयों ! चलना    मुझे       अकेला    था । ।3 । । समय   किसी   से   नहीं   रुकता   है, यह    तो    निरन्तर    चलता   है।  जीत    भी    उसी       की    होती, जो    समय   पर   सम्भलता    है ।  मुझको   भी   ऐसे    ही    चलना, मस्तिष्

तेरा इन्तजार रहेगा | Tera Intzaar Rahega | By Hariram Regar

तेरा इन्तजार रहेगा मैं तुझसे हूँ मीलों दूर , तू  मु झसे है   कोसों दूर।  रहूँ मैं चाहे कैसा भी पर, प्यार करूँ तुझसे भरपूर।  ऐ सनम ! नहीं भूला तुझको , मुझको तुझसे प्यार रहेगा। बस तू मेरा इन्तजार कर , मुझको तेरा इन्तजार रहेगा॥ 1 ॥ हर पल हर क्षण याद करूँ मैं , भगवन से फरियाद करूँ मैं , जाने वो पल कब आएगा ? फिर भी वक्त बर्बाद करूँ मैं। तू मेरी रानी बन घर आये, ये दिल तेरा दिलदार रहेगा। बस तू मेरा इन्तजार कर , मुझको तेरा इन्तजार रहेगा॥ 2 ॥ तू मुझसे मौन थी पर , मैं न समझा तू नाराज़ है। तेरी इस ख़ामोशी में भी कोई न कोई राज़ है। तू ये ख़ामोशी भी बनाये रख, तेरी इस ख़ामोशी से भी प्यार रहेगा। बस तू मेरा इन्तजार कर , मुझको तेरा इन्तजार रहेगा॥ 3 ॥ ---By Hariram Regar Tera Intazaar Rahega main tujhse hoon meelon dur, Tu mujhase hai koson dur. rahoon main chaahe kaisa bhee par, pyaar karoon tujhase bharapoor| E sanam! nahin bhoola tujhako, mujhako tujhase

उदास धरती माँ

उदास धरती माँ तेरे चेहरे पे झलकती थी खूब ख़ुशी , तू पहनती थी हरी साड़ी ख़ुशी ख़ुशी । आती थी तेरे तन से फूलों की बास । हे धरती माँ ! आज क्यों है तू इतनी उदास ? आम अमरुद बरगद बबूल सब कहा गए ? तेरे सारे अंग आज शिथिल कैसे पड़ गए ? यहां पर आज किसने किया है वास ? हे धरती माँ ! आज क्यों है तू इतनी उदास ? तेरे ऊंचे ऊंचे पर्वतों के सर आज कैसे झुक गए ? चलती हुई नदियों के कदम आज कैसे रुक गए ? आज इन सरोवरों को क्यों लगी है प्यास ? हे धरती माँ ! आज क्यों है तू इतनी उदास ? पहले हवा में महकती थी सुमनों की सुगंध । इसमें आज फैली है प्लास्टिक थैलियों की दुर्गन्ध । कहाँ कर गए तेरे सारे सुमन प्रवास ? हे धरती माँ ! आज क्यों है तू इतनी उदास ? कैसे टूटा है यह   तेरा ओज़ोन कवच ? अब ये प्राणी कैसे पाएंगे बच ? जहाँ सूरज की गन्दी किरणों का फैला है त्रास।  हे धरती माँ ! आज क्यों है तू इतनी उदास ? तेरे ध्रुव खण्ड आज क्यों पिघल रहे ? समुद्री पानी के कदम भूमि पर क्यों चल रह