सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured post

Suicide Poem | By Hariram Regar

 आत्महत्या  क्या विषाद था तेरे मन में? क्यों लटक गया तू फंदे पर? जो औरों को कन्धा देता, क्यों आज है वो पर कंधे पर? क्या गिला रहा इस जीवन से? जो अकाल काल के गले मिला। जिसको नभ में था विचरण करना, क्यों बंद कक्ष-छत तले मिला? क्या इतना विशाल संकट था? जो जीकर ना सुलझा पाया। अरे! इतनी भी क्या शर्म-अकड़? जो अपनो को ना बतलाया।  क्या जीवन से भारी कोई  जीवन में ही आँधी आई? इन छुट-मुट संकट के चक्कर में  मृत्यु ही क्यों मन भायी? हाँ हार गया हो भले मगर, हाँ कुछ ना मिला हो भले मगर, या जीत गया हो भले मगर, पर जीवन थोड़ी था हारा? अरे! हार जीत तो चलती रहती।  इस हार से ही क्यों अँधियारा ?

Disclaimer

HindiPoems.in के लिए अस्वीकरण
यदि आपको किसी और जानकारी की आवश्यकता है या हमारी साइट के डिस्क्लेमर के बारे में कोई प्रश्न पूछना है, तो कृपया बेझिझक hrsirdi@gmail.com पर ईमेल द्वारा हमसे संपर्क करें।

HindiPoems.in के लिए अस्वीकरण
इस वेबसाइट की सभी जानकारी - HindiPoems.in - अच्छी आस्था और केवल सामान्य सूचना के उद्देश्य से प्रकाशित की जाती है। हिंदी कविता संघ इस जानकारी की पूर्णता, विश्वसनीयता और सटीकता के बारे में कोई वारंटी नहीं देता है। इस वेबसाइट (HindiPoems.in) पर आपको जो भी जानकारी मिलती है, वह आपके अपने जोखिम पर कड़ाई से होती है। HindiPoems.in हमारी वेबसाइट के उपयोग के संबंध में किसी भी नुकसान और / या नुकसान के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

हमारी वेबसाइट से, आप ऐसी बाहरी साइटों पर हाइपरलिंक का अनुसरण करके अन्य वेबसाइटों पर जा सकते हैं। हालांकि हम उपयोगी और नैतिक वेबसाइटों के लिए केवल गुणवत्ता लिंक प्रदान करने का प्रयास करते हैं, लेकिन इन साइटों की सामग्री और प्रकृति पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं है। अन्य वेबसाइटों के लिए ये लिंक इन साइटों पर मिलने वाली सभी सामग्री के लिए सिफारिश नहीं करते हैं। साइट के मालिक और सामग्री बिना किसी सूचना के बदल सकते हैं और हो सकता है इससे पहले कि हमारे पास कोई लिंक हटाने का अवसर हो जो 'खराब' हो गया हो।

कृपया यह भी ध्यान रखें कि जब आप हमारी वेबसाइट छोड़ते हैं, तो अन्य साइटों में अलग-अलग गोपनीयता नीतियां और शर्तें हो सकती हैं जो हमारे नियंत्रण से परे हैं। कृपया किसी भी व्यवसाय में संलग्न होने या किसी भी जानकारी को अपलोड करने से पहले इन साइटों की गोपनीयता नीतियों और साथ ही उनकी "सेवा की शर्तों" को अवश्य देखें।

सहमति
हमारी वेबसाइट का उपयोग करके, आप हमारे अस्वीकरण के लिए सहमति देते हैं और इसकी शर्तों से सहमत होते हैं।

परिवर्तन करें
क्या हमें इस दस्तावेज़ में कोई परिवर्तन, संशोधन या बदलाव करना चाहिए, उन परिवर्तनों को यहाँ प्रमुखता से पोस्ट किया जाएगा।

Disclaimer for HindiPoems.in

If you require any more information or have any questions about our site's disclaimer, please feel free to contact us by email at hrsirdi@gmail.com.

Disclaimers for HindiPoems.in

All the information on this website - HindiPoems.in
 - is published in good faith and for general information purpose only. HindiPoems.in does not make any warranties about the completeness, reliability, and accuracy of this information. Any action you take upon the information you find on this website (HindiPoems.in), is strictly at your own risk. HindiPoems.in will not be liable for any losses and/or damages in connection with the use of our website.
From our website, you can visit other websites by following hyperlinks to such external sites. While we strive to provide only quality links to useful and ethical websites, we have no control over the content and nature of these sites. These links to other websites do not imply a recommendation for all the content found on these sites. Site owners and content may change without notice and may occur before we have the opportunity to remove a link that may have gone 'bad'.
Please be also aware that when you leave our website, other sites may have different privacy policies and terms that are beyond our control. Please be sure to check the Privacy Policies of these sites as well as their "Terms of Service" before engaging in any business or uploading any information.

Consent

By using our website, you hereby consent to our disclaimer and agree to its terms.

Update

Should we update, amend or make any changes to this document, those changes will be prominently posted here.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चलना मुझे अकेला | Chalna mujhe akela | Motivational Poem | By Hariram Regar

चलना   मुझे    अकेला सड़क   पड़ी     सुनसान   भाइयों ! चलना    मुझे       अकेला    था।  इच्छा   नहीं   थी   मेरी   फिर   भी, मन    ने    मुझे    धकेला     था।  सड़क   पड़ी     सुनसान   भाइयों ! चलना    मुझे       अकेला    था । ।1 । ।   क्या   बारिश   से   रुक   सकता   है ? चन्द्रमा        का        चलना।  क्या   बारिश   से   रुक   सकता   है ? पृथ्वी    का    घूर्णन    करना ।  यह   मेरे   मन   ने   मुझको   बोला   था ।  सड़क   पड़ी     सुनसान   भाइयों ! चलना    मुझे       अकेला    था । ।2 । । आज    बारिश    से    बच    सकता   तू, कल    दुःख    की    बाढ़    में       बहना ।  तू    इतनी   सी   बात    से    डरता    तो, तुझे    स्वलक्ष्य    से    वंचित    रहना ।  मन    ने      मुझे      समझाते       हुए, ऐसा      भी        कह        डाला       था ।  सड़क   पड़ी     सुनसान   भाइयों ! चलना    मुझे       अकेला    था । ।3 । । समय   किसी   से   नहीं   रुकता   है, यह    तो    निरन्तर    चलता   है।  जीत    भी    उसी       की    होती, जो    समय   पर   सम्भलता    है ।  मुझको   भी   ऐसे    ही    चलना, मस्तिष्

तेरा इन्तजार रहेगा | Tera Intzaar Rahega | By Hariram Regar

तेरा इन्तजार रहेगा मैं तुझसे हूँ मीलों दूर , तू  मु झसे है   कोसों दूर।  रहूँ मैं चाहे कैसा भी पर, प्यार करूँ तुझसे भरपूर।  ऐ सनम ! नहीं भूला तुझको , मुझको तुझसे प्यार रहेगा। बस तू मेरा इन्तजार कर , मुझको तेरा इन्तजार रहेगा॥ 1 ॥ हर पल हर क्षण याद करूँ मैं , भगवन से फरियाद करूँ मैं , जाने वो पल कब आएगा ? फिर भी वक्त बर्बाद करूँ मैं। तू मेरी रानी बन घर आये, ये दिल तेरा दिलदार रहेगा। बस तू मेरा इन्तजार कर , मुझको तेरा इन्तजार रहेगा॥ 2 ॥ तू मुझसे मौन थी पर , मैं न समझा तू नाराज़ है। तेरी इस ख़ामोशी में भी कोई न कोई राज़ है। तू ये ख़ामोशी भी बनाये रख, तेरी इस ख़ामोशी से भी प्यार रहेगा। बस तू मेरा इन्तजार कर , मुझको तेरा इन्तजार रहेगा॥ 3 ॥ ---By Hariram Regar Tera Intazaar Rahega main tujhse hoon meelon dur, Tu mujhase hai koson dur. rahoon main chaahe kaisa bhee par, pyaar karoon tujhase bharapoor| E sanam! nahin bhoola tujhako, mujhako tujhase

उदास धरती माँ

उदास धरती माँ तेरे चेहरे पे झलकती थी खूब ख़ुशी , तू पहनती थी हरी साड़ी ख़ुशी ख़ुशी । आती थी तेरे तन से फूलों की बास । हे धरती माँ ! आज क्यों है तू इतनी उदास ? आम अमरुद बरगद बबूल सब कहा गए ? तेरे सारे अंग आज शिथिल कैसे पड़ गए ? यहां पर आज किसने किया है वास ? हे धरती माँ ! आज क्यों है तू इतनी उदास ? तेरे ऊंचे ऊंचे पर्वतों के सर आज कैसे झुक गए ? चलती हुई नदियों के कदम आज कैसे रुक गए ? आज इन सरोवरों को क्यों लगी है प्यास ? हे धरती माँ ! आज क्यों है तू इतनी उदास ? पहले हवा में महकती थी सुमनों की सुगंध । इसमें आज फैली है प्लास्टिक थैलियों की दुर्गन्ध । कहाँ कर गए तेरे सारे सुमन प्रवास ? हे धरती माँ ! आज क्यों है तू इतनी उदास ? कैसे टूटा है यह   तेरा ओज़ोन कवच ? अब ये प्राणी कैसे पाएंगे बच ? जहाँ सूरज की गन्दी किरणों का फैला है त्रास।  हे धरती माँ ! आज क्यों है तू इतनी उदास ? तेरे ध्रुव खण्ड आज क्यों पिघल रहे ? समुद्री पानी के कदम भूमि पर क्यों चल रह