सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured post

4 Line Shayari in Hindi | By Hariram Regar

4 Line Shayari in Hindi | By Hariram Regar ************************************************ कभी मक्की, कभी गेंहूँ, कभी है ज्वार की रोटी।  मेरी माता बनाती है, कभी पतली, कभी मोटी।  मगर क्या स्वाद आता है, भले वो जल गई थोड़ी।  नसीबों में कहाँ सब के, है माँ के हाथ की रोटी।।                                                                                                 ©Hariram Regar ************************************************ कोई नफ़रत है फैलाता, कोई बाँटे यहाँ पर प्यार।  कहानी और किस्सों से खचाखच है भरा संसार।  यहाँ कुछ लोग अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बने फिरते।  मगर किस्से नहीं कहते जहाँ खुद ही है वो गद्दार।।                                                                              ©Hariram Regar ************************************************ कोई जीने को खाता है, कोई जीता है खाने को। कोई कौड़ी बचाता है, कोई खर्चे, दिखाने को। अमीरी और गरीबी में यहाँ बस फ़र्क़ इतना है, कोई दौड़े कमाने को, कोई दौड़े पचाने को।।                                                                             ©Hariram

चलना मुझे अकेला | Chalna mujhe akela | Motivational Poem | By Hariram Regar

चलना मुझे  अकेला

सड़क पड़ी  सुनसान भाइयों !
चलना  मुझे   अकेला  था। 
इच्छा नहीं थी मेरी फिर भी,
मन  ने  मुझे  धकेला  था। 
सड़क पड़ी  सुनसान भाइयों !
चलना  मुझे   अकेला  था।1 

क्या बारिश से रुक सकता है?
चन्द्रमा     का    चलना। 
क्या बारिश से रुक सकता है?
पृथ्वी  का  घूर्णन  करना। 
यह मेरे मन ने मुझको बोला था। 
सड़क पड़ी  सुनसान भाइयों !
चलना  मुझे   अकेला  था।2

आज  बारिश  से  बच  सकता तू,
कल  दुःख  की  बाढ़  में   बहना। 
तू  इतनी सी बात  से  डरता  तो,
तुझे  स्वलक्ष्य  से  वंचित  रहना। 
मन  ने   मुझे   समझाते   हुए,
ऐसा   भी    कह    डाला   था। 
सड़क पड़ी  सुनसान भाइयों !
चलना  मुझे   अकेला  था।3

समय किसी से नहीं रुकता है,
यह  तो  निरन्तर  चलता है। 
जीत  भी  उसी   की  होती,
जो  समय पर सम्भलता  है। 
मुझको भी ऐसे  ही  चलना,
मस्तिष्क में यह  खयाला था। 
सड़क पड़ी  सुनसान भाइयों !
चलना  मुझे   अकेला  था।4

निकल पड़ा में लक्ष्य को  लेकर,
बस  चलने   को  ठान  लिया। 
सवार हुआ था साइकिल पर मैं,
छाता   सर  पर  तान  लिया। 
मस्त गति से साइकिल चलती,
पीछे    मेरा    थैला    था। 
सड़क पड़ी  सुनसान भाइयों !
चलना  मुझे   अकेला  था।5

---By Hariram Regar

Chalna Mujhe Akela Tha

sadak padee  sunasaan bhaiyon !

chalana  mujhe   akela  tha. 

ichchha nahin thee meree phir bhee,

man  ne  mujhe  dhakela  tha. 

sadak padee  sunasaan bhaiyon !

chalana  mujhe   akela  tha..1.. 


kya baarish se ruk sakata hai?

chandrama     ka    chalana. 

kya baarish se ruk sakata hai?

prthvee  ka  ghoornan  karana. 

yah mere man ne mujhako bola tha. 

sadak padee  sunasaan bhaiyon !

chalana  mujhe   akela  tha..2..


aaj  baarish  se  bach  sakata too,

kal  duhkh  kee  baadh  mein   bahana. 

too  itanee see baat  se  darata  to,

tujhe  svalakshy  se  vanchit  rahana. 

man  ne   mujhe   samajhaate   hue,

aisa   bhee    kah    daala   tha. 

sadak padee  sunasaan bhaiyon !

chalana  mujhe   akela  tha..3..


samay kisee se nahin rukata hai,

yah  to  nirantar  chalata hai. 

jeet  bhee  usee   kee  hotee,

jo  samay par sambhalata  hai. 

mujhako bhee aise  hee  chalana,

mastishk mein yah  khayaala tha. 

sadak padee  sunasaan bhaiyon !

chalana  mujhe   akela  tha..4..


nikal pada mein lakshy ko  lekar,

bas  chalane   ko  thaan  liya. 

savaar hua tha saikil par main,

chhaata   sar  par  taan  liya. 

mast gati se saikil chalatee,

peechhe    mera    thaila    tha. 

sadak padee  sunasaan bhaiyon !

chalana  mujhe   akela  tha..5..



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जय चित्तौड़(गीत)

'जय चित्तौड़' मैं  गाऊंगा तो, सारा शहर हिला दूंगा हाँ 'जय चित्तौड़' मैं  गाऊंगा तो, सारा विश्व हिला दूंगा दुश्मन जो अड़ जाए मुझसे , मिट्टी में मिला दूंगा हाँ मिट्टी में मिला दूंगा, उसे मिट्टी में मिला दूंगा 'जय चित्तौड़' मैं  गाऊंगा तो, सारा शहर हिला दूंगा x2 हाँ 'जय चित्तौड़' मैं  गाऊंगा तो, सारा विश्व हिला दूंगा।।1 ।। आन बान की बात जो आती , जान भी दाव लगा देते x2 अपनी इज़्जत के खातिर हम, अपना शीश कटा देते X2 हम तो है भारतवासी , न रुकते है, न झुकते है x2 ऊँगली उठी अगर किसी की,  दुनिया से उठा देते x2 उसे ऐसा मजा चखाउंगा, कि सब कुछ ही भुला दूंगा x2 हाँ 'जय चित्तौड़' मैं  गाऊंगा तो, सारा विश्व हिला दूंगा।।2।। मीरा बाई हुई जहाँ पर ,कृष्ण से इसको प्रीत लगी x2 छोड़ दिया घर बार था इसने, दुनिया से न प्रीत लगी x2 ज़हर का प्याला इसने पीया, डरी डरी सी कभी न रही x2 अंत में उससे जा मिली ,जिससे थी इसको प्रीत लगी x2 शक्ति और भक्ति की गाथा सबको मैं सुना दूंगा x2 हाँ 'जय चित्तौड़' मैं  गाऊंगा तो, सारा विश्व हिला दूंगा।।3।

4 Line Shayari in Hindi | By Hariram Regar

4 Line Shayari in Hindi | By Hariram Regar ************************************************ कभी मक्की, कभी गेंहूँ, कभी है ज्वार की रोटी।  मेरी माता बनाती है, कभी पतली, कभी मोटी।  मगर क्या स्वाद आता है, भले वो जल गई थोड़ी।  नसीबों में कहाँ सब के, है माँ के हाथ की रोटी।।                                                                                                 ©Hariram Regar ************************************************ कोई नफ़रत है फैलाता, कोई बाँटे यहाँ पर प्यार।  कहानी और किस्सों से खचाखच है भरा संसार।  यहाँ कुछ लोग अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बने फिरते।  मगर किस्से नहीं कहते जहाँ खुद ही है वो गद्दार।।                                                                              ©Hariram Regar ************************************************ कोई जीने को खाता है, कोई जीता है खाने को। कोई कौड़ी बचाता है, कोई खर्चे, दिखाने को। अमीरी और गरीबी में यहाँ बस फ़र्क़ इतना है, कोई दौड़े कमाने को, कोई दौड़े पचाने को।।                                                                             ©Hariram